Nato countries v/s Russia Power Comparison, Who is strongest?

जब भी नाटो पश्चिमी देशो में अपने विस्तार को गति देने कोशिस करता है तो रूस उस पर कड़ा एतराज जताता है | और नाटो के के साथ जुड़ने की इच्छा रखने वाले देशो को सबक सिखने के लिए किस हद तक जाने को तैयार रहता है | ऐसे ही बानगी देखने को 2014 में मिली थी जब अचानक और अपरंपरागत सैन्य अभियान से रूसी सैनिकों ने यूक्रेन में प्रवेश किया और अवैध रूप से क्रीमिया पर कब्जा कर लिया था | आज फिर २०२२ में रूस यूक्रेन के कई शहरो में कब्जा कर लिया है और यूक्रेन की राजधानी कीव पे ताबड़ तोड़ हमले कर रहा है |

रूस और नाटो देशों में कौन है सबसे ताकतवर, किसके पास है कितना हथियार।

जहां पे नाटो देशों के पास 54 लाख, 5 हजार, 700 सैनिक हैं, वही रूस के पास 13 लाख, 50 हजार सैनिक हैं. और विस्तार में जानने लिए निचे दिए हुए अकड़े देखे

इस युद्ध के परिणाम घातक हो सकते है ?

अगर इसी तरह से यह युद्ध चलता रहा तो आने वाले समय में इसके गंभीर परिणाम हो सकते है , यह तक लोगो का कहना है की ये युद्ध कहि तीसरे विश्व युद्ध का द्वार न खोल दे | एक तरह से रूस का आक्रमण कारी रवैया और दूसरी तरफ ब्रिटेन और अमेरिका का यूक्रेन को खुला समर्थन है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Choose Language