Sudhir vs Ravish : रवीश कुमार और सुधीर चौधरी में से बेहतर पत्रकार है कौन ? और कैसे

बेहतर पत्रकार मानने का मापदंड क्या होना चाहिए? इसका जवाब अभी भारत जैसे देश में खोजना बहुत ही मुश्किल है। “निष्पक्ष” जो सच है उसे दिखाए और आम जनता तक पहुंचाए।जो हमारे देश का कानून कहता है उसकी बात करे। जनता के लिए काम करे ना कि किसी व्यक्ति विशेष के लिए। देश से प्रेम करे और देशहित की बात करे। लेकिन अक्सर भारतीय मिडिया में २०१४ के बाद ज्यादा झुकाव सत्ता पक्ष के तरफ है. इसे ले के भारत में अक्सर लोग गोदी मिडिया का मुद्दा उठाते है। अभी तक भारत में ऐसा कोई पारदर्शी मापदंड नहीं जिससे हम पत्रकारिता को माप और सबसे अच्छा पत्रकार कौन है इसका चुनाव कर सके। अलग अलग न्यूज चैनल अलग मापदंडो के हवाले से अपने चैनल को देश का नंबर १ चैनल अपने पत्रकारों को सबसे उम्दा पत्रकार बताते है।

लेकिन ऐसे ही एक रिसर्च हम आप के बीच लेके है. जिसे ndtv के सुशील महापात्र ने अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से साझा किया है जिसमे उन्होंने यूट्यूब के जरिये ये बताने की कोसिस कि है की सुधीर चौधरी जी के ब्लैक एंड वाइट और रवीश कुमार का प्राइम टाइम को यूट्यूब पे मिले व्यूज के जरिये विश्लेषण किया है सबसे ज्यादा लोकप्रिय है कौन है।

फ़ेसबुक पर सुशील महापात्र, एनडीटीवी , लिखते है की

सुधीर चौधरी जी के ब्लैक एंड वाइट का काफी प्रचार के साथ शुरू किया गया था। पहला शो यूट्यूब में15 लाख से ज्यादा लोग भी देखे थे इसका खबर भी छपा था कि आज यूट्यूब में जाकर ब्लैक एंड वाइट और प्राइम टाइम के व्यू का तुलना कर रहा था। 16 अगस्त से लेकर 26 अगस्त तक 9 शो का व्यू देखा। यह सब फुल शो है। 9 दिनों में कुल व्यू 38 लाख के करीब है यानी एक दिन का औसत व्यू 4.4 लाख के करीब है। जब आजतक देख लिया तो मुझे लगा प्राइम टाइम का व्यू भी देखना चाहिए। प्राइम टाइम का 9 दिनों का औसत व्यू 96 लाख है यानी एक दिन का औसत व्यू 10 लाख 50 हज़ार के करीब। अब आते हैं यूट्यूब के subscription पर। आज तक के 5 करोड़ 32 लाख subscriber हैं जब कि NDTV इंडिया का 1 करोड़ 48 लाख subscriber हैं यानी आजतक के सब्सक्राइबर NDTV India से लगभग 4 गुना ज्यादा है।

पूरा लेख आप उनके फेसबुक पे जाके पढ़ सकते है। और उनके कहने का तातपर्य यह है की रवीश कुमार का शो प्राइम टाइम सुधीर चौधरी के शो से जय्दा प्रसिद्ध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Choose Language