Agnipath scheme : अग्निपथ’ पर विरोध तेज देश के कई शहरों में उपद्रवियों ने फूंकी कई ट्रेने .

अग्निपथ स्कीम को लेकर छात्रों का विरोध बढ़ता जा रहा है , हर बीतते दिन के साथ उग्र ये आंदोलन अब हिंसक होता जा रहा है. इस विरोध की आग अब यूपी-बिहार के साथ कई और राज्यों में फैलती जा रही है. शुक्रवार को कई जगह आगजनी हुई है, रेल और सड़क मार्ग को उपद्रवियों ने बाधित किया . 15 जून से ही देशभर में इस योजना को लेकर छात्रों ने विरोध शुरू किया है . अब स्थिति और भी गंभीर और हिंसक हो गई है. खासकर बिहार राज्य में हालात ज्यादा ख़राब हैं. जहां पे युवाओं के निशाने पर रेलवे है. आरा में कुल्हड़िया स्टेशन पर प्रदर्शन कर रहे उपद्रवियों ने यहां खड़ी पैसेंजर ट्रेन में आग लगा दी.

Agnipath scheme protest Latest Live Updates: सेना में भर्ती की नई योजना ‘Agnipath scheme’ का विरोध शुक्रवार को भी जारी है. सुबह-सुबह ही यूपी-बिहार में कई ट्रेनों को फूंके जाने की खबर आ रही है . बिहार के अलग-अलग शहरों के साथ-साथ यूपी के बलिया में भी युवा सड़कों पर आ गए हैं और युवकों ने बलिया रेलवे स्टेशन में जमकर तोड़फोड़ शुरू कर दिया। और इधर , केंद्र सरकार की इस नई योजना का राजनीतिक दलों ने भी विरोध दर्ज करना शुरू कर दिया है.

खबर ये है की बिहार के मोतिहारी में 23 लोग अरेस्ट किया गया है। अग्निपथ योजना के खिलाफ कल हुए प्रदर्शन पर अब पुलिस एक्शन शुरू हो चुका है. यहां पुलिस ने 23 लोगों को गिरफ्तार किया है. कल के पथराव में 11 पुलिसकर्मियों को चोट आई थी.

यूपी के वाराणसी शहर में में बस पर पथराव की खबर है। यह उपद्रवियों ने अग्निपथ स्कीम के विरोध के चलते वाराणसी में एक बस पर पथराव किया है. इससे पहले उपद्रवियों ने बलिया में ट्रेन को फूंका था. खबर है की स्टेशन पर तोड़फोड़ भी हुई है .

अग्निपथ स्कीम का विरोध दक्षिण भारत में भी देखा जा रहा है।

यहां पे अग्निपथ स्कीम के खिलाफ तेलंगाना में भी प्रदर्शन हो रहा है. यहां विरोध कर रहे लोगों ने Secunderabad रेलवे स्टेशन पर तोड़फोड़ की है. यह भी एक ट्रेन को आग लगा दी गई है.

इस विरोध का सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य बिहार है. वैसे अग्निपथ स्कीम को लेकर उत्तर भारतीय और मध्य भारत राज्य सबसे अधिक प्रभावित है।

Agnipath scheme के विरोध में अब मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस समेत सभी दलों ने इस योजना का विरोध किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Choose Language