Maharashtra Political Crisis Live Updates : महाराष्ट्र के सियायत का फैसला सुप्रीम कोर्ट की चौखट पर !

बागी विधायकों पर फिर संजय राउत का तीखा वार, कहा- ‘उनका जमीर मर गया है’ और उन्होंने twitter पे लिखा की “कब तक छीपोगे गोहातीमे.. आना हि पडेगा.. चौपाटीमे”

युवा सेना की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में आदित्य ठाकरे ने कल बागी विधायकों पर ताबड़तोड़ हमला बोलते हुए यह बयान दिया कि असली ताकत शिवसैनिक हैं. परसों तक जो मेरी गाड़ी में बैठे थे, वो भी चले गये. यह जो परिस्थिति हमारे ऊपर आई है, जब उद्धव ठाकरे बीमार हैं. आज अगर बाला साहब ठाकरे या आनंद दिघे होते और उनके सामने उन्होंने यह किया होता तो वह उन्हें अपनी भाषा में समझाते. और उन्होंने खा की मुझे एक डायलॉग याद आ रहा है, दिलवाले पिक्चर का कि हम शरीफ क्या हुए और सारी दुनिया बदमाश हो गई. और आदित्य ठाकरे ने खा की मैं तो रास्ते पर उतर ही रहा हूं लेकिन आप भी घर घर जाकर उनकी सच्चाई लोगों तक पहुंचाइए और उनको समझाइये की इन लोगो ने पार्टी के साथ गद्दारी की है .

इधर डिप्टी स्पीकर ने १६ विधायकों को उनके सदस्यता को रद्द करने का नोटिस भेजा तो बागी विधायक सुप्रीप कोर्ट चलेगये अब ये मामला उच्च न्यालाय में है जहा सब की निगाहे कोर्ट पे है

उधर शिवसेना नेता संजय राउत ने अपने बयान में ‘ज़िंदा लाश’ कि जो बात की थी उस पर सफाई दी है. वह बोले कि जो लोग 40-40 साल तक पार्टी में रहते हैं और फिर भाग जाते हैं, उनका ज़मीर मर गया है, तो उसके बाद क्या बचता है? ज़िंदा लाश. और उन्होंने कहा की ये शब्द राममनोहर लोहिया साहब के हैं.और मैंने किसी की भावना को ठेस पहुंचाने का काम नहीं किया, मैंने सत्य कहा है. बागी विधायकों पर फिर तीखा वार करते हुए वह बोले कि जो ‘लोग अपना बाप बदल लेते हैं, बेईमान होते हैं, ‘हम लोग कभी अपना बाप नहीं बदलते’. संजय राउत ने आगे कहा कि हम लोग रोड टेस्ट और फ्लोर टेस्ट दोनों के लिए तैयार हैं.दोनों के लिए तैयार है

Maharashtra Political Crisis : शिवसेना के मुताबिक, इस पारंपरिक ड्रामे के सूत्रधार और निर्देशक निश्चित तौर पर बीजेपी के लोग है, इसका खुलासा हो ही गया है. और शिवसेना नेता ने कहा की केंद्र और महाराष्ट्र की भाजपा ने ही इन नचनियों को उकसाया है. उनकी नौटंकी का मंच उन्होंने ही बनाया व सजाया है और कथा-पटकथा भी भाजपा ने ही लिखी है यह अब छुपा नहीं रह गया है.

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार पर सियासी संकट अभी बना हुआ है. इसी बीच केन्द्र सरकार ने शिवसेना के बागी विधायकों को y+ सिक्योरिटी दी है और इसे को लेकर केंद्र पर शिवसेना ने निशाना साधा है. शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा है कि गुवाहाटी मामले में आखिर भाजपा की पोल खुल गई है. सामना में लिखा गया बीजेपी लगातार कह रही थी कि विधायकों की बगावत शिवसेना का अंदरूनी मामला है. लेकिन अब बताया जा रहा है कि वडोदरा में एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस की अंधेरे में गुप्त बैठक हुई है. और ये भी है इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह शामिल थे.

और शिवसेना ने सामना में आगे लिखा, लेकिन इतना तय है कि महाराष्ट्र के सियासी लोकनाट्य में केंद्र की डफली, तंबूरे वाले कूद पड़े हैं और राज्य के ‘नचनिये’ विधायक उनकी ताल पर नाच रहे हैं. ये तमाम ‘नचनिये’ लोग वहां गुवाहाटी के एक पांच सितारा होटल में अपने महाराष्ट्र द्रोह का प्रदर्शन पूरे देश और दुनिया को करा रहे हैं. शिवसेना की तरफ से इस तरह तल्ख़ बयान दिए जा रहे है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Choose Language